Ultimate magazine theme for WordPress.

101+ Famous Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi, English, Urdu 2022

0

Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi and Urdu

Faiz Ahmed Faiz Quotes
Image credit: wikipedia

 

Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi and Urdu 2022: Faiz Ahmed Faiz is one of the most popular and famous Pakistani poets, he was also an author in Urdu and Punjabi language.

He was not just a writer or poet, he was also a teacher, an army officer, a journalist, a trade unionist, and a broadcaster. This man is an all-rounder in so many fields.

But the professional he recognized is a writer and poet. He was a great and most celebrated writer and poet of the Urdu language in Pakistan.

He was born on 13 February 19 11 Narowal, Sialkot, Sidtrict, Punjab. He died on 20 November 1984 at the age of 73 in Lahore Pakistan.

151+ Painful Dhoka Quotes | Dhokha Shayari in Hindi 2 Line

He studied Arabic literature B.A, MA English literature Master of Arts. His occupation was Poet, Journalist, and Army Officer.

He won so many awards in his life like Nigar Awards (1953) Lenin Peace Prize (1962) HRC Peace Prize Nishan-e-Imtiaz (1990) Avicenna Prize (2006)

His wife’s name is Alys Faiz and he was 2 children Salima and Muneeza.

101+ Love Sad Shayari in Hindi and English 2022 (Images)

Let’s move to the topic which is “Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi, English, and Urdu 2022. You will see below one of the most famous Faiz Ahmed Faiz Quotes, Faiz Ahmed Faiz Poems, Poetry, Punjab Poetry, Etc. below is this post.

Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi and Poems in Hindi and Urdu

if you are looking for the Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi then we have written one of the most famous, and popular, Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi 2022.

301+ Happy, Cute, Fake Shayari on Smile in Hindi and English

You can check out the Faiz Ahmed Faiz Quotes in Hindi below which we have written:

वो आँख जिस के वनाब पे खालिक इतराए

जवान ऐ शेर* को तारीफ करते शर्म आये

 

और भी दुःख है ज़माने में मोहब्बत के सिबा,

राहते और भी है बसल की रहत के सिवा |

 

कब ठहरेगा दर्द ऐ दिल कब रात बसर होगी

सुनते थे बो आएंगे सुनते थे सहर होगी |

 

दिल न उम्मीद तो नहीं नका, ही तो है

लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है |

 

लाज़िम है की हम भी देखेंगे वो दिन जिसका के वादा है,

जो लाउ ऐ अज़्ल में लिखा है

जब ज़ुल्म ो सितम के कोह इ गरान

रुई की तरह उड़ जायेंगे

हम मह्कूमों के पाऊँ तले जब धरती धड़ धड़ धड़केगी |

 

शुक्र करना सीखो, इतना मिलेगा की थक जाओगे |

 

कब झहरेगा दर्द ऐ दिल, कब रात बसर होगी,

सुनते थे वो आएंगे, सुनते थे सहर होगी |

 

माना की यह सुनसान घडी सख्त बड़ी है

लेकिन मेरे दिल यह तो फखर एक घडी है

हिम्मत करो, जीने को अभी उम्र पड़ी है |

 

मुझ से पहली सी मोहब्बत मेरी मेहबूब न मांग

में ने समजा था की तू है तो दरख्शां है हयात |

 

कब तक अभी रह देखें ऐ क़ामत इ जनाना

कब हशर मुअय्यन है तुझ को तो खबर होगी |

कब महकेगी फसल ऐ गुल कब बहकेगा मई खाना

कब सुबह इ सुखं होगी कब शाम ऐ नज़र होगी

 

कब जान लहू होगी कब अश्क गुहार होगा

किस दिन तेरी सुनवाई ऐ दीदा ऐ तार होगी |

 

कब ठहरेगा दर्द ऐ दिल कब रात बसर होगी

सुनते थे वो आएंगे सुनते थे सहर होगी |

 

हल ऐ चमन पर तल्ख़ नवाई, मुर्ग़ ऐ चमन कुछ इस से ज़्यादा |

 

भूले से मुस्कुरा तो दिए थे वो आज “Faiz”

मत पूछ वलवले दिल ऐ न करदा कार के |

 

दुनिया ने तेरी याद से बेगाना कर दिया

तुझ से भी दिल फरेब है गम रोज़गार के |

 

एक फुर्सत ऐ गुनाह मिली वो भी चार दिन

देखे हैं हम ने हौसले परवरदिगार के |

दोनों जहाँ तेरी मोहब्बत में हार के बो जा रहा है

कोई शब् ऐ ग़म गुज़र के |

 

कब याद में तेरा साथ नहीं कब हाथ में तेरा हाथ नहीं,

सद शुक्र की अपनी रातों में अब हिज़्र की कोई रात नहीं |

 

इक गुल के मुरझाने पर क्या गुलशन में कोहराम मचा,

इक चेहरा कुम्हला जाने से कितने दिल नाशाद हुए |

 

पहले भी तबायफ ऐ शम ऐ बफा थी रसम मोहब्बत बालों की,

हम तुम से पहले भी यहाँ मंसूर हुए फरहाद हुए |

 

पहले भी खिंजा में भाग उजड़े पर यु नहीं जैसे अब के बरस,

सारे बूटे पत्ता पत्ता रबिश रबिश बर्बाद हुए |

 

अब के बरस दस्तूर ऐ सितम में क्या क्या बाब ीरज़ाद हुए

जो कातिल थे मकतूल हुए जो सैद थे अब सय्यद हुए |

 

दर ऐ क़फ़स पे अँधेरे की मोहर लगती है,

तो फैज़ दिल में सितारे उतरने लगते है |

 

वो जब भी करते हैं इस नुत्क़ ो लैब की बखिया गारी

फ़ज़ा में और भी नग़मे भिखरने लगते है |

 

सबा से करते है ग़ुरबत नसीब जिक्र ऐ बतन,

तो चशम ऐ सुबह में आंसूं उभरने लगते है |

 

हर अजनबी हमें मेहरम दिखाई देता है,

जो अब भी तेरी गली से गुजरने लगते है |

 

तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते है

किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते है |

 

जो हम पे गुज़री सो गुज़री मगर शब् इ हिज्राँ

हमारे अश्क तिरि आक़िबत संवर चले |

Faiz Ahmed Faiz Quotes in English and Poems in English

The following are someone of the most famous and popular Faiz Ahmed Faiz Quotes in English below.

441+ (Love and Attitude) 1 Line Shayari in Hindi 2022, लव शायरी

You can check out these awesome Faiz Ahmed Faiz Quotes, Poetry, Shayari, sayings, Etc. below in this post:

Tum aae ho na shab-e-intzaar guzri hai

Talash meri hai sahar baar baar guzri hai

 

Juga the hum to mayassar thi gurbaten kitni

Beham huye to padi hain judaiyaan kya kya

 

Tez hai aaj dard-e-dil saqqi

Talkhi-e-mai ko tez-tar kar de

 

Qarz-e-nigah-e-yar ada kar chuke hain ham

Sab kuch nisar-e-rah-evafa kar chuke hain ham

 

Tiri nazar ka gila kya jo hai gila dil ka

Toh hum se hai ki tamanna ziyada rakhte hai

 

Kya janne kis ko kis se hai ab daad ki talab

Vo gham jo mere dil mein hai teri nazar mein hai

 

Tez hai aaj dard-e-dil saaqi

Talkhi-e-mai ko tez-tar kar de

Leave A Reply

Your email address will not be published.